Wednesday, January 27, 2021

Team India Captaincy: सिडनी में दोहरी हार के बाद टीम इंडिया में फिर उठे कप्तानी को लेकर सवाल

- Advertisement -


नितिन नाइक, मुंबई
सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज में लगातार दो मैच हारने के बाद एक बार फिर अलग-अलग फॉर्मेट में अलग कप्तान की बहस एक बार फिर शुरू हो गई है।

रोहित शर्मा ने बतौर कप्तान आईपीएल में मुंबई इंडियंस को काफी कामयाबी दिलाई है और विराट कोहली की कप्तानी में दो आईसीसी टूर्नमेंट- 2017 आईसीसी चैंपियंस ट्रोफी और 2019 50 ओवर वर्ल्ड कप- में भारतीय टीम की असफलता ने इस बहस में इजाफा किया है।

लेकिन बड़ा सवाल है टाइमिंग का। अगले तीन साल में तीन वर्ल्ड कप होने हैं। दो टी20 वर्ल्ड कप और 2023 में 50 ओवर का वर्ल्ड कप। अब सवाल यह उठता है कि क्या यह कप्तान बदलने का सही समय है?

ऑस्ट्रेलिया में वनडे सीरीज में कोहली की कप्तानी पर सवाल उठ रहे हैं। खास तौर पर दूसरे वनडे में- जहां उन्होंने अच्छी गेंदबाजी कर रहे जसप्रीत बुमराह को सिर्फ दो ओवर बाद हटा लिया और नवदीप सैनी को गेंद थमाई, जहां से असल में ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय गेंदबाजी पर हमला बोलना शुरू किया।

बुमराह को जिस तरह हैंडल किया, उससे पूर्व वनडे कप्तान और बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर काफी निराश नजर आए। गंभीर पहले भी कोहली की कप्तानी को लेकर सवाल उठा चुके हैं। आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम एक भी खिताब नहीं जीत पाई है, इसे लेकर गंभीर कोहली से काफी नाराज थे। बुमराह के बारे में गंभीर ने ईएसपीएनक्रिकइंफो में कहा, ‘मेरी समझ में नहीं आता कि अगर आपके पास जसप्रीत बुमराह की क्षमता वाला गेंदबाज है और आप उसे शुरुआत में सिर्फ दो ओवर देते हैं तो यह एक रणनीतिक चूक नहीं है बल्कि रणनीतिक ब्लंडर है।’

गंभीर ने आगे कहा, ‘मैं उम्मीद कर रहा था कि बुमराह और शमी शुरुआत में पांच-पांच ओवर का स्पैल फेंकेंगे और कुछ विकेट निकालेंगे। मुझे नहीं लगता कि दुनिया में कोई ऐसा कप्तान होगा जो नई गेंद से जसप्रीत बुमराह को सिर्फ दो ओवर देगा।’

गंभीर पहले भी सीमित ओवरों की कप्तानी रोहित शर्मा को सौंपने की कड़ी वकालत कर चुके हैं। उन्होंने यहां तक कहा था कि रोहित को भारत की वाइट बॉल टीम की कप्तानी नहीं सौंपी जाती है तो यह ‘भारत का नुकसान होगा रोहित का नहीं।’

यह बात सच है कि इस साल की शुरुआत से ही कोहली बतौर कप्तान और बल्लेबाज अपनी बेस्ट फॉर्म में नहीं रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जनवरी में वनडे सीरीज 2-1 से जीतने के बाद, कोहली ने न्यूजीलैंड में टी20 सीरीज में 5-0 से जीत हासिल की (रोहित शर्मा ने पांचवें मैच में कप्तानी की थी)। लेकिन इसके बाद वनडे सीरीज में 0-3 और टेस्ट में 0-2 से भारत को हार का सामना करना पड़ा।

कोहली का निजी फॉर्म भी उनके स्तर के हिसाब से कम हुआ है। कोहली ने इस साल 8 मैचो में भारत की कप्तानी की है इसमें उन्होंने चार हाफ सेंचुरी की मदद से 368 रन बनाए हैं। यह उनके कुल औसत 59.29 से काफी कम है।

हालांकि कोई अन्य बल्लेबाज 46 के बल्लेबाजी औसत को काफी अच्छा मानेगा लेकिन कोहली ने जितने लंबे समय तक इतनी अच्छी औसत कायम रखी है, तो उनकी महानता ही उनके आड़े आ रही है।

इस साल खेले गए टी20 इंटरनैशनल में उनका प्रदर्शन और खराब रहा है। सात मैचों में उन्होंने 161 रन बनाए हैं और उनका बेस्ट स्कोर 45 का रहा है। कोहली का बल्लेबाजी औसत इस दौरान 32.20 का ही रहा है, जो उनके 50.80 के औसत से काफी कम है।

कोहली के साथ दो साल तक बैंगलोर की टीम में काफी करीब से काम करने वाले पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने कोहली को ‘जल्दबाजी’ में निर्णय वाला कप्तान बताया।

नेहरा ने कहा कि कोहली गेंदबाजी में लगातार परिवर्तन कर रहे हैं इसके अलावा उन्होंने कोहली की बल्लेबाजी को लेकर भी कहा कि वह काफी जल्दबाजी में नजर आ रहे हैं। नेहरा ने कहा, ‘पहले मैच में ऐसा लगा कि कोहली काफी जल्दी में हैं। कोहली ने कई बार 350 का लक्ष्य हासिल किया है। ऐसा लग रहा था कि वह 375 नहीं 475 के टारगेट का पीछा कर रहे हैं।’

गंभीर और नेहरा की बात पर ध्यान रखते हुए हमें इस पर विचार करना चाहिए कि कोहली कप्तानी की अतिरिक्त जिम्मेदारी में और निखर जाते हैं। फिलहाल टेस्ट क्रिकेट में उनकी कप्तानी को कोई चुनौती नहीं है लेकिन साथ ही इस बात का भी खयाल रखना चाहिए कि वाइट बॉल क्रिकेट में भी कोहली शानदार कप्तान रहे हैं।

कोहली के आंकड़े इस बात की गवाही देते हैं। उन्होंने अभी तक 250 वनडे इंटरनैशनल में 11977 रन बनाए हैं। उनका बल्लेबाजी औसत 59.29 का है और स्ट्राइक रेट 93.92 का। कोहली के रनों का बड़ा हिस्सा लक्ष्य का पीछा करते हुए बने हैं। कोहली के नाम इस समय वनडे इंटरनैशनल में 43 शतक लगा चुके हैं। और बात अगर बतौर कप्तान करें तो यह नंबर बेहतर हो जाते हैं। कोहली ने 91 वनडे इंटरनैशनल मैचों में भारत की कप्तानी की है। इनमें उन्होंने 5257 रन बनाए हैं। उनका बल्लेबाजी औसत 74.04, स्ट्राइक रेट 98.87 का है। इस दौरान उन्होंने 21 शतक लगाए हैं।

भारत ने कोहली की कप्तानी में कई अच्छी जीत भी हासिल की हैं। इन जीत वाले मैचों में कोहली के नंबर वाकई हैरान करने वाले लगते हैं। उन्होंने इन 62 मुकाबलों में 90.77 के औसत और 100.36 के स्ट्राइक रेट से 4085 रन बनाए हैं। कोहली ने इन जीत में 17 शतक लगाए हैं।

टी20 इंटरनैशनल की बात करें तो कोहली ने 82 मैचों में 50.80 के औसत से 2794 रन बनाए हैं। उनका स्ट्राइक रेट 138.24 का है। कोहली ने 37 टी20 इंटरनैशनल मैचों में कप्तानी की है और इसमें से 22 भारत ने जीते हैं। इन जीते हुए मैचों में कोहली का औसत 55.64 और स्ट्राइक रेट 146.42 का है।

कोहली ने टी20 वर्ल्ड कप में अभी तक भारत की कप्तानी नहीं की है। तो वे लोग जो उनकी कप्तानी को आईसीसी इवेंट के आधार पर तौलना चाहते हैं, उन्हें किसी फैसले पर पहुंचने से पहले कम से कम उनके असफल होने का इंतजार करना होगा।

पर सवाल यह है कि क्या एक ऐसे खिलाड़ी जिसने बतौर कप्तान और बल्लेबाज शानदार प्रदर्शन किया है, इस तरह उसके हौसले को तोड़कर कप्तानी किसी दूसरे को देना सही होगा?

जब धोनी अपनी कप्तानी के अंतिम दौर में थे, तो सभी को पता था कि अब मशाल कोहली के हाथों में थमाई जाएगी। इसी वजह से यह बदलाव बेहद आसानी से हो गया। अब जब तीन बड़े आयोजन आने को हैं, क्या अब कप्तान बदलना ठीक होगा? क्या यह कोहली के साथ जायज होगा? क्या यह रोहित के लिए सही होगा? भारत को टी20 वर्ल्ड कप से पहले कुछ ही टी20 इंटरनैशनल मुकाबले खेलने हैं। क्या रोहित को हैंडओवर के लिए इतना कम वक्त देना सही है? कोहली को 2019 वर्ल्ड कप की टीम तैयार करने के लिए ढाई साल का वक्त मिला। और इस दौरान टीम इंडिया ने शानदार और आधुनिक वनडे इंटरनैशनल क्रिकेट खेला। और अगर वाकई कप्तानी बदलने की योजना पर काम हो रहा है, क्या यह सही नहीं होगा कि रोहित को भी अपने हिसाब से टीम को तैयार करने का सही वक्त मिले।

नई सिलेक्शन समिति के सामने भी कई सवाल हैं। हालांकि वह अपना काम आसान कर सकते हैं अगर वे सीमित ओवरों की टीम की कप्तानी में जल्दबाजी न करें। अगर कोई बदलाव होना ही है तो वह अगले साल होने वाले टी20 वर्ल्ड कप के बाद ही लिया जाए। इस तरह रोहित को किसी एक इवेंट के लिए कम से कम दो साल का वक्त मिल जाएगा। 2022 में ऑस्ट्रेलिया में टी20 वर्ल्ड कप होना है और 2023 में भारत में 50 ओवर का वर्ल्ड कप होना है।

आईपीएल की कामयाबी को किसी तरह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कामयाबी का पैमाना नहीं माना जा सकता। क्या हम तब भी यह बहस कर रहे होते अगर ऑस्ट्रेलिया में पहले दो वनडे रोहित शर्मा की कप्तानी में खेले गए होते और आईपीएल रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने विराट कोहली की कप्तानी में जीता होता न कि रोहित की MI ने, तब भी हम यही सवाल कर रहे होते?



Source link

इसे भी पढ़ें

लड़के की जमकर हुई पिटाई

लड़का- जब तुमको मेरी 'मोहब्बत' बोझ लगे तो बता देना?लड़की - क्यों, क्या करोगे फिर...?लड़का - मैं चुपचाप दूसरी पटा लूंगा...इसके बाद लड़के...

पॉल स्टर्लिंग के शतक पर भारी राशिद खान, अफगानिस्तान ने आयरलैंड को हरा जीती वनडे सीरीज

अबु धाबीपॉल स्टर्लिंग (118) के धांसू शतक पर करिश्माई स्पिनर राशिद खान (48 रन और 29/4) की घातक बोलिंग भारी पड़ गई। अफगानिस्तान...

किसान प्रदर्शन के बीच लाल किले की घटना से सनी देओल दुखी , कहा- दीप सिद्धू से कोई संबंध नहीं है

गणतंत्र दिवस परेड के बीच राजधानी दिल्‍ली में अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शनकारी किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। भारी संख्या में...
- Advertisement -

Latest Articles

लड़के की जमकर हुई पिटाई

लड़का- जब तुमको मेरी 'मोहब्बत' बोझ लगे तो बता देना?लड़की - क्यों, क्या करोगे फिर...?लड़का - मैं चुपचाप दूसरी पटा लूंगा...इसके बाद लड़के...

पॉल स्टर्लिंग के शतक पर भारी राशिद खान, अफगानिस्तान ने आयरलैंड को हरा जीती वनडे सीरीज

अबु धाबीपॉल स्टर्लिंग (118) के धांसू शतक पर करिश्माई स्पिनर राशिद खान (48 रन और 29/4) की घातक बोलिंग भारी पड़ गई। अफगानिस्तान...

किसान प्रदर्शन के बीच लाल किले की घटना से सनी देओल दुखी , कहा- दीप सिद्धू से कोई संबंध नहीं है

गणतंत्र दिवस परेड के बीच राजधानी दिल्‍ली में अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शनकारी किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। भारी संख्या में...

Imran Butt Catch: पाकिस्तानी डेब्यू स्टार इमरान बट्ट का ऐसा कैच, बल्लेबाज ही नहीं दर्शक भी हैरान

कराचीपाकिस्तान क्रिकेट टीम ने पहले टेस्ट के पहले दिन मंगलवार को दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 220 रनों पर समेट दी लेकिन जवाब...