Sunday, February 28, 2021

इन आदतों को रखें दूर, दांत रहेंगे स्वस्थ

- Advertisement -


एक सर्वे बताता है कि भारतीय अपने दांतों को लेकर खासे लापरवाह हैं। लगभग साठ प्रतिशत भारतीय (Indian) डेंटिस्ट (Dentist) की सेवाएं लेने से कतराते हैं। अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ बातों को जोड़कर और कुछ आदतों को घटाकर दांतों को आसानी से स्वस्थ रखा जा सकता है।

एक सर्वे बताता है कि भारतीय अपने दांतों को लेकर खासे लापरवाह हैं। लगभग साठ प्रतिशत भारतीय (Indian) डेंटिस्ट (Dentist) की सेवाएं लेने से कतराते हैं। अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ बातों को जोड़कर और कुछ आदतों को घटाकर दांतों को आसानी से स्वस्थ रखा जा सकता है।

ज्यादा पानी (water) पिएं और खाने के बाद नियमित कुल्ला करें। नियमित कुल्ला करने से मसूड़ों और दांतों के बीच फंसे कण भी बाहर निकल आते हैं। इससे मुंह दुर्गंधमुक्त रहता है।

अपने खाने में सेब, खीरा, गाजर जैसे फलों को शामिल करें। ये आपके दांतों को प्राकृतिक रूप से साफ करते हैं और मसूड़ों की समस्या भी दूर करते हैं।

शुगर फ्री (sugar free) और दांतों को चमकदार बनाए रखने वाले च्युइंगम प्रोड्क्टस भी दांतों को साफ रखने में सहायक होते हैं। इनका संतुलित इस्तेमाल आपके पाचन को भी बेहतर बनाता है।

ठंडे पेय लेते वक्त स्ट्रॉ का उपयोग करें ताकि आपके दांत बेहद ठंडे और मीठे के सीधे सम्पर्क में आने से बचें।

दिन में कम से कम दो बार नियमित ब्रश करें। दिन में भी कुछ खाने के बाद मुंह की सफाई जरूर करें। विटामिन सी को भोजन का हिस्सा बनाएं। इससे मसूड़े स्वस्थ बने रहेंगे।

कैल्शियम वाले टूथपेस्ट से ज्यादा कारगर है कि आप इसकी जगह कैल्शियम से भरपूर भोजन करें और दांतों को मजबूत बनाएं।

इन्हें कहें अलविदा
चॉकलेट और टॉफी का कम से कम इस्तेमाल करें। चॉकलेट पूरे मुंह में घुलकर दांतो की दरारों में फंस जाता है और कैविटि बनाता है।

भोजन में स्टार्च का इस्तेमाल कम करें। यह बैक्टेरिया पैदा करता है जिनकी वजह से दांतों में सडऩ की समस्या पैदा हो जाती है।

ज्यादा गर्म और ज्यादा ठंडे दोनों प्रकार के खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें। ये दोनों ही दांतों के इनैमल को खराब करते हैं।

बहुत ठंडी चीज खाने के तुरंत बाद बहुत गर्म चीज न खाएं। इससे नसों में सनसनाहट की समस्या पैदा होती है। मसूड़ों से खून पायरिया के लक्षण हैं। तुरंत डेंटिस्ट से संपर्क करें।

दांतों की सुरक्षा के लिए देर तक भूखे रहना और दुर्गंधयुक्त पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।















Source link

इसे भी पढ़ें

पिच विवाद पर इंग्लैंड के कोच जोनाथन ट्रॉट ने दिया ऐसा जवाब, भारतीय फैंस हो जाएंगे फिदा

अहमदाबादमोटेरा की पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच जोनाथन ट्रॉट का मानना है कि अपने कौशल पर...

भारतीय टीम की मानसिकता 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह: डेरेन गॉ

लंदनइंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज डेरेन गॉ ने मौजूदा भारतीय टीम की तुलना 1990 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की मानसिकता से करते...
- Advertisement -

Latest Articles

पिच विवाद पर इंग्लैंड के कोच जोनाथन ट्रॉट ने दिया ऐसा जवाब, भारतीय फैंस हो जाएंगे फिदा

अहमदाबादमोटेरा की पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच जोनाथन ट्रॉट का मानना है कि अपने कौशल पर...

भारतीय टीम की मानसिकता 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह: डेरेन गॉ

लंदनइंग्लैंड के पूर्व तेज गेंदबाज डेरेन गॉ ने मौजूदा भारतीय टीम की तुलना 1990 के दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की मानसिकता से करते...