Sunday, February 28, 2021

औषधीय गुणों से भरपूर है गन्ना, रस पीने से होंगे 1 दर्जन से अधिक फायदे

- Advertisement -


औषधीय गुणों से भरपूर है गन्ना, रस पीने से होंगे 1 दर्जन से अधिक फायदे

गन्ना औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसलिए इसके रस का सेवन आपको आपके शरीर को कई प्रकार से फायदेमंद है। वैसे तो गर्मी आते ही बाजार में कई प्रकार के रस उपलब्ध होते हैं। लेकिन अगर आप गन्ने का रस का सेवन करेंगे तो निश्चित ही आपको कई बीमारियों से भी छुटकारा मिल जाएगा। यह बात हम नहीं कह रहे यह बात प्राचीन काल से ही मानी जा रही है।

आपको बता दें कि गन्ने का रस पीलिया, अपचन, त्वचा, मूत्र सहित अन्य रोगों के उपचार में काफी लाभदायक है। आज हम आपको गन्ने के रस के फायदे बतायंगे। जिनके बारे में शायद आपको मालूम नहीं हो।

लीवर के लिए फायदेमंद-

गन्ने का रस आपका लिवर सिस्टम मजबूत होता है और पीलिया के लिए भी काफी फायदेमंद रहता है। गन्ने का जूस पीने से पीलिया में बहुत जल्दी फायदा होता है। लिवर की कार्यप्रणाली में रूकावट होने के कारण पीलिया होता है। इसलिए गन्ने का रस पीने से लीवर अपना काम करने लगता है।

शुगर के मरीज पी सकते हैं गन्ना-

वैसे तो मधुमेह के मरीजों के लिए मीठी चीजों का सेवन प्रतिबंधित रहता है। लेकिन गन्ने का रस ऐसा पेय है।जिसे मधुमेह से पीड़ित लोग भी पी सकते हैं। क्योंकि गन्ने के रस में आइसोमाल्टोज होता है। आइसोमाल्टोज में ग्लाइसेमिक की कमी होती है। जिसका उपयोग मधुमेह से पीड़ित मरीज भी कर सकते हैं।

वजन को करता है नियंत्रित-

गन्ने का रस वजन घटाने के लिए एक प्राकृतिक नुस्खा है। एक शोध के अनुसार गन्ना फाइबर युक्त होता है और वह वजन कम करने के साथ लिपिड को भी कंट्रोल करता है। यह ग्लूकोस को तोड़कर ऊर्जा बनाने में सहायक है और इसका खाली पेट सेवन करने से कई फायदे होते हैं।

इम्युनिटी सिस्टम करता बेहतर-

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में गन्ना काफी फायदेमंद है। गन्ने में हेपाटोप्रोटेक्टिव और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। गन्ने का रस कई प्रकार के बैक्टीरियल और वायरल संक्रमण से बचाने के साथ-साथ इम्यूनिटी सिस्टम बढ़ाने में मदद करता है।

टॉन्सिल्स मैं भी फायदेमंद-

गन्ने के रस के यूं तो कई फायदे हैं। यह गले की समस्या के लिए भी काफी बेहतर है। जिसको टॉन्सिल्स की परेशानी है, उन्हें गन्ने के जूस का सेवन करने से काफी फायदा होगा। क्योंकि जब टांसिल में सूजन आ जाती है तो वह दर्द ओर तकलीफ का कारण बनता है, गन्ने का जूस खराब गला, जुकाम और फ्लू जैसी समस्याएं भी ठीक होती है।

घाव भरने में भी लाभदायक-

गन्ने का जूस का सेवन करने से शरीर पर हुए घाव भी जल्दी भर आते हैं। घाव को ठीक करने के लिए गन्ने से बनी शक्कर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि उस शक्कर में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं। जो घाव को ठीक करने में काफी मददगार होंगे।

यूरीन समस्या के लिए फायदेमंद-

गन्ने के रस से यूरिन से संबंधित समस्याओं से भी निजात मिलती है। यूरिन करते समय दर्द, जलन या असहज होना, मूत्र मार्ग में किसी प्रकार का संक्रमण आदि से निजात पाने के लिए गन्ने के रस का सेवन किया जा सकता है।

नाखूनों के लिए फायदेमंद-

आपके नाखून रूखे बेजान और कमजोर हैं। तो उनके स्वास्थ्य के लिए गन्ने का रस काफी फायदेमंद होगा। क्योंकि गन्ने में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है। जो नाखून को मजबूत बनाता है।

मुहांसों के लिए भी बेहतर-

गन्ने का रस नाखूनों के लिए काफी फायदेमंद है। इस के जूस में अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड होता है। जो मुंहासों से निजात दिलाने में अहम भूमिका निभाता है।

बुखार में भी फायदेमंद-

बुखार किसी ना किसी प्रकार के संक्रमण के कारण होता है। अगर बुखार है तो उस दौरान भी गन्ने का रस पिया जा सकता है। क्योंकि यह संक्रमण का कारण बनने वाले बैक्टीरिया वायरस को खत्म करने का काम करता है। ऐसे में इस का जूस पीने से बुखार को कम करने में काफी मदद मिलती है।

कैन्सर-

गन्ने के रस में ट्रायसिन नामक एक फ्लेवोन पाया जाता है। जो एंटीऑक्सीडेंट गुणों से युक्त होता है। एंटी प्रोलाइफरेटिव के कारण गन्ने का जूस कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकता है। ऐसे में गन्ने का रस का सेवन करने से यह कैंसर के रोग से भी बचाता है।

ऊर्जा का स्रोत-

गन्ने के रस में कार्बोहाइड्रेट होता है। जिस कारण इसके सेवन से व्यक्ति को काफी देर तक ऊर्जा मिलती है। व्यायाम करने के बाद शरीर को फिर से हाइड्रेट करने और तरोताजा करने के लिए गन्ने का रस भी काफी बेहतर माना गया है।





Source link

इसे भी पढ़ें

Rajendra Prasad Death Anniversary : जब टीचर ने की थी राजेंद्र बाबू की तारीफ, कही थी यह बात

हाइलाइट्स:1962 में उन्हें 'भारतरत्‍न' की सर्वश्रेष्ठ उपाधि से सम्मानित किया गयालोकप्रियता की वजह से उन्हें उन्‍हें राजेंद्र बाबू या देश रत्‍न कहा जाता...

Asteroids के बीच छिपा बैठा धूमकेतु, 4 लाख मील लंबी पूंछ वाला स्पेस ऑब्जेक्ट खगोलविदों के लिए बना पहेली

सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के पीछे-पीछे ऐस्टरॉइड्स भी सूरज का चक्कर काटते हैं जिन्हें Trojan asteroid कहते हैं। अमेरिकी स्पेस...
- Advertisement -

Latest Articles

Rajendra Prasad Death Anniversary : जब टीचर ने की थी राजेंद्र बाबू की तारीफ, कही थी यह बात

हाइलाइट्स:1962 में उन्हें 'भारतरत्‍न' की सर्वश्रेष्ठ उपाधि से सम्मानित किया गयालोकप्रियता की वजह से उन्हें उन्‍हें राजेंद्र बाबू या देश रत्‍न कहा जाता...

Asteroids के बीच छिपा बैठा धूमकेतु, 4 लाख मील लंबी पूंछ वाला स्पेस ऑब्जेक्ट खगोलविदों के लिए बना पहेली

सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के पीछे-पीछे ऐस्टरॉइड्स भी सूरज का चक्कर काटते हैं जिन्हें Trojan asteroid कहते हैं। अमेरिकी स्पेस...