Monday, June 14, 2021

क्या कोवैक्सीन की पहली खुराक लेने वाला व्यक्ति दूसरी ख़ुराक में कोविशील्ड ले सकता हैं? यहां पढ़ें

- Advertisement -


Health News in Hindi: देश में कोरोना की दवा के रूप में दो टिके सर्वाधिक रूप से सभी 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को लगाए जा रहे हैं। इन टीकों की बात करें तो 45 वर्ष से ऊपर की आयु वालों को कोवैक्सीन सबसे ज्यादा लगाई गई है।

Health News in Hindi: देश में कोरोना की दवा के रूप में दो टिके सर्वाधिक रूप से सभी 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को लगाए जा रहे हैं। इन टीकों की बात करें तो 45 वर्ष से ऊपर की आयु वालों को कोवैक्सीन सबसे ज्यादा लगाई गई है। वर्तमान में कोविशील्ड सबसे ज्यादा काम में ली जा रही है। अभी तक यह सुनिश्चित किया गया था कि व्यक्ति को लगने वाला टिका एक ही होगा। पहली खुराक में लगने वाली वैक्सीन ही दूसरी खुराक में दी जाएगी। सोमवार को कोविड टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह और COVID-19 वर्किंग ग्रुप प्रमुख एनके अरोड़ा ने बताया कि भारत कुछ हफ्तों में दो अलग-अलग टीकों के मिश्रण की व्यवहार्यता पर एक अध्ययन शुरू करने की संभावना है।

Read More: सेहत के लिए बेहद फायदेमंद हैं ये मसाले, जानें इसके 5 बड़े फायदे

एनके अरोड़ा ने कहा कि देश यह परीक्षण करने की योजना बना रहा है कि क्या दो अलग-अलग निर्माताओं की वैक्सीन की खुराक को मिलाकर वायरस की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने में मदद मिलती है?

केंद्रीय पैनल के प्रमुख ने कहा, “भारत जल्द ही कुछ हफ्तों में COVID टीकों की दो अलग-अलग खुराक को मिलाकर इस ख़ुराक की व्यवहार्यता का परीक्षण शुरू कर सकता है। जिसमें यह जांचा जाएगा कि क्या यह मिश्रण वायरस के प्रति प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने में मदद करता है।”

Read More: खानपान में भूलकर भी न करें इन 5 चीजों का अत्यधिक सेवन, फेफड़ों पर पड़ सकता है बुरा असर

अरोड़ा ने आगे कहा कि अगस्त तक भारत के पास प्रति माह 20 से 25 वैक्सीन खुराकें होंगी और अन्य 5 से 6 करोड़ खुराक अन्य विनिर्माण इकाइयों या विदेशों से होंगी। उन्होंने कहा, “उद्देश्य हर दिन 1 करोड़ लोगों का टीकाकरण करना है।”

केंद्र ने हाल ही में Covid-19 वैक्सीन की दूसरी ख़ुराक के रूप में पहली ख़ुराक से अलग वैक्सीन लेने के “प्रतिकूल प्रभाव” से इनकार किया है, और कहा कि इस पर एक मजबूत राय बनाने से पहले “अधिक जांच और समझ” की आवश्यकता होगी।

Read More: गर्मी के दिनों में हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए इन फलों का जरूर करें सेवन, यहां पढ़ें

यह स्पष्टीकरण उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले में 20 लोगों के बाद आया, जिन्हें पहली खुराक में कोविशील्ड दिया गया था, उन्हें गलती से कोवैक्सिन दिया गया था। मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार, लाभार्थियों को दी जाने वाली दोनों खुराक एक ही टीके की होनी चाहिए।

वर्तमान में, भारत निर्मित दो टीके – SII द्वारा निर्मित कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सिन- भारत में लोगों को COVID-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत इस्तेमाल किए जा रहे हैं। रूस निर्मित स्पुतनिक वी आपातकालीन उपयोग के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) से अनुमोदन प्राप्त करने वाला तीसरा टीका है और कुछ निजी अस्पतालों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

Web Title: a person taking the 1st dose of Covaccine take Covishield in the 2nd dose?





Source link

इसे भी पढ़ें

French Open: जोकोविच ने जीत के बाद युवा फैन को गिफ्ट किया रैकेट, रिऐक्शन हुआ वायरल

हाइलाइट्स:जोकोविच ने सितसिपास को फ्रेंच ओपन के फाइनल में हराकर जीता 19वां ग्रैंड स्लैम52 साल के इतिहास में जोकोविच सभी ग्रैंड स्लैम दो...
- Advertisement -

Latest Articles

French Open: जोकोविच ने जीत के बाद युवा फैन को गिफ्ट किया रैकेट, रिऐक्शन हुआ वायरल

हाइलाइट्स:जोकोविच ने सितसिपास को फ्रेंच ओपन के फाइनल में हराकर जीता 19वां ग्रैंड स्लैम52 साल के इतिहास में जोकोविच सभी ग्रैंड स्लैम दो...