Wednesday, August 4, 2021

मेडिटेशन मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायी हैं

- Advertisement -


भागदौड़ भरे जीवन में व्यक्ति की दिनचर्चा मशीन के समान हो चुकी है। व्यक्ति को न तो शारीरिक और न ही मानसिक शांति मिल पाती है। क्या आप ऐसी ज़िंदगी से थोड़ी राहत पाना चाहते हैं तो मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं। चलिए जानते हैं कि किस तरह मेडिटेशन से आप अपनी रोजमर्रा की दिनचर्या को सुव्यस्थित कर सकते हैं।

नई दिल्ली। मेडिटेशन वह दवा है जिसके द्वारा हम अपने शरीर की सभी बिमारियों से निजात पा सकते हैं, लेकिन अधिकतर लोगों को मेडिटेशन की ताकत का अंदाजा भी नहीं है। जिस तरह हम एक्सरसाइज करके अपने शरीर को मजबूत बनाते हैं, ठीक उसी तरह मेडिटेशन द्वारा हम अपने दिमाग को मजबूत बनाते हैं और जो व्यक्ति दिमाग से मजबूत होता है वह अपने काम को बहुत ही अच्छी तरह कर सकता है। इसीलिए आजकल बड़ी-बड़ी कॉर्पोरेट कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए मेडिटेशन वर्कशॉप्स का आयोजन करती हैं। मेडिटेशन आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को कैसे स्वस्थ और बेहतर बनाता है, आइए इसके बारे में जानते हैं।

मेडिटेशन से होने वाले शारीरिक और मानसिक लाभ

क्रेविंग को कंट्रोल करता हैः आजकल लोगों में अनहेल्दी फूड्स की क्रेविंग ज्यादा बढ़ गई है, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। जब आप मेडिटेशन करते हैं तो खुद को ऐसी फूड क्रेविंग से रोक सकते हैं। फूड क्रेविंग को रोकने में माइंडफुलनेस मेडिटेशन बहुत लाभदायी होता है।

दर्द कम करता है: थकान या किसी अन्य कारण से शरीर में दर्द होता है तो मेडिटेशन इस दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। इससे दर्द ठीक तो नहीं होता, लेकिन उस अंग में दिमाग की मदद से सेंसेशन कम कर देता है। जिसेस आपको ज्यादा दर्द महसूस नहीं होता।

यह भी पढ़ें : माइंडफुल मेडिटेशन का अभ्यास महत्वपूर्ण

दिमाग की क्षमता बढ़ाता है: मेडिटेशन ही एक मात्र ऐसा उपाय है जो दिमाग की क्षमता को बढ़ा सकता है। मेडिटेशन से इंसान की सोचने-समझने की क्षमता बढ़ती है। वैज्ञानिक मानते हैं कि मेडिटेशन से ग्रे मैटर वॉल्यूम बढ़ता है जिससे ब्रेन सेल्स कम घटते हैं या बढ़ जाते हैं। जानकार बताते हैं ब्रेन सेल्स की मात्रा अधिक होने से दिमाग काफी कुशाग्र रहता है।

यह भी पढ़ें : पुरातन और विज्ञान : अदृश्य होने की विधि का विज्ञान

मानसिक स्वास्थ्य बेहतर बनाता है: नियमित मेडिटेशन करने से इंसान का मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होता है जिससे डिप्रेशन, तनाव सहित कई परेशानियों से लोगों को राहत मिलती है। दिमाग पर सकारात्मक असर होता है।

इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है: मेडिटेशन से इंसान का शरीर स्वस्थ्य रहता है, एंटीबॉडीज का शरीर में तेजी से विकास होता है। मेडिटेशन का असर यह होता है कि इंसान के शरीर में फ्लू या वायरस से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है।





Source link

इसे भी पढ़ें

- Advertisement -

Latest Articles

भव्य स्वागत देख बोले पीवी सिंधु के कोच कोच पार्क ताइ सांग- मुझे ‘गुरु’ बनाने के लिए शुक्रिया

नई दिल्लीतोक्यो ओलिंपिक में इतिहास रचने वाली भारत की बेटी पीवी सिंधु के विदेशी कोच पार्क ताइ सांग भव्य स्वागत से अभिभूत दिखे।...